Sunday, October 21, 2018
मुख्य समाचार मनोरंजन राष्ट्रीय राजनीति लाइफ स्टाइल स्वास्थ

इमरजेंसी पर भारी पड़ी शराबबंदी, लोगों से भरी जेल

साल 2015 में बिहार में महागठबंधन की सरकार की बनी। नितीश कुमार को राज्य का मुख्यमंत्री चुना गया। सत्ता में आने के बाद अप्रैल 2016 में सीएम नितीश कुमार ने बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू कर दिया। तब से अभी तक इसकी सफलता और विफलता को लेकर तमाम बातें हुई। कभी इसकी असफलता को लेकर चर्चा हुई तो कभी इससे जुड़े फायदों पर, कभी अवैध शराब के व्यापार पर तो कभी पुलिस और प्रशासन की कार्यशैली पर लेकिन इन दौरान कुछ बातें ऐसी भी हैं जो हैरान करने वाली हैं।

इन बातें का जिक्र सीएम नीतीश कुमार ने विधानसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए बताया था। बेशक शराबबंदी से कई फायदे हुए हैं लेकिन यह तथ्य भी किसी से छुपा नहीं है कि आज भी बिहार के कई हिस्सों में चोरी से अवैध शराब की बिक्री की जा रही है। यह सब प्रशासन की देखरेख में हो रहा है इसमें भी शायद ही कोई संदेह हो।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के अनुसार, राज्य में शराबबंदी के बाद से अब तक कुल 1.21 लाख लोग शराब पीते हुए या बेचते पकड़े गये हैं। इस दौरान लगभग हर जिले से बड़े पैमाने पर शराब की खेप बरामद हुई है। जानकारी के अनुसार, आपको बता दें कि बिहार में जितने लोग शराब पीने-पिलाने और बेचने के मामले में जेल गए हैं उतने लोग इमरजेंसी के दौरान भी जेलों में नहीं थे। इसकी सख्ती को लेकर या सरकार की नीयत को लेकर कहीं कोई शक नहीं है लेकिन फिर भी एक सवाल तो उठता है कि क्या यह कानून बिल्कुल सही है और काम कर रहा है? क्या इसमें समुचित बदलाव नहीं किया जाना चाहिए?

आंकड़े इस बात की भी तस्दीक करते हैं कि भले ही अपराध के आंकड़े कागजों पर कम हुए लेकिन जेलों में अपराधियों से ज्यादा शराबी भर गए और कैदियों की कोई कमी नहीं है। इस बाबत हाईकोर्ट भी कई बार राज्य सरकार को फटकार लगा चुकी है। अगर ये मामले इसी गति से बढ़ते रहे तो वह दिन दूर नहीं जब गंभीर मामलों के आरोपियों से ज्यादा शराबी जेलों में बंद नजर आएंगे। कुल मिलाकर देखें तो इसमें बदलाव की जरूरत है।
आज की हमारी यह पोस्ट कैसी लगी हमे कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। रोजाना ऐसी पोस्ट पढ़ने के लिए आप हमें फॉलो करें और इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते हैं।

The post इमरजेंसी पर भारी पड़ी शराबबंदी, लोगों से भरी जेल appeared first on SocialPost.